Makar Sankranti 2020

, , Leave a comment

शुभ मुहूर्त- अभिजीत-12:14 pm से12:57 pm

अशुभ मुहूर्त- राहुकाल-प्रातः 07:30 से 09 बजे तक

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

Makar Sankranti 2020

Makar Sankranti (Happy Makar Sankranti)


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

Wish you “Makar Sankranti”2020


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

Makar Sankranti

 शुभ मुहूर्त- अभिजीत-12:14 pm से12:57 pm

अशुभ मुहूर्त- राहुकाल-प्रातः 07:30 से 09 बजे तक


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

              Wish you “Makar Sankranti”2020
मकर संक्रांति एक और पवित्र त्योहार है। इस त्योहार की तारीख (Makar Sankranti Date) 14 जनवरी और 15 जनवरी के बीच कुछ लोगों में भ्रम की स्थिति है। हम आज आपको इसी बारे में बताने जा रहे हैं। दरअसल इस साल मकर संक्रांति का त्योहार 14 जनवरी से शुरु होने जा रहा है और 15 जनवरी तक चलेगा। इसका मुहूर्त दोनों तारीखों में देखने को मिलेगा। 

Makar Sankranti

Wish you “Makar Sankranti”2020
सूर्य इस बार मकर राशि की संक्रांति में 14 जनवरी 2020 यानी सोमवार को रात 2.19 मिनट पर प्रवेश करेंगे और इसी के साथ मकर संक्रांति का मुहूर्त भी शुरु हो जाएगा। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार जिस समय मकर की संक्रांति में सूर्य प्रवेश करते हैं उसके बाद दूसरे दिन सूर्योंदय से दोपहर तक संक्रांति का पुण्य काल माना जाता है।
Wish you “Makar Sankranti”2020


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

Makar Sankranti

इस तरह इस साल 2020 का खिचड़ी का पर्व यानी मकर संक्रांति का त्योहार 15 जनवरी मंगलवार को है। इस दिन लोग अपनी-अपनी परंपराओं के अनुसार अलग-अलग काम करते हैं। शुभ मुहूर्त में स्नान किया जाता और खिचड़ी, तिल के लड्डू का सेवन किया जाता है। नीचे जानिए कि आपको मकर संक्रांति पर क्या उपाय करने चाहिए।
Wish you “Makar Sankranti”2020
    इस दिन आराध्य देवता की पूजा करने के बाद तिल के लड्डू और खिचड़ी खानी 
    Makar Sankranti

    चाहिए।

    Wish you “Makar Sankranti”2020
    1. मकर संक्रांति पूजा विधि-
      मकर संक्रांति के दिन सुबह किसी नदी, तालाब शुद्ध जलाशय में स्नान करें। इसके बाद नए या साफ वस्त्र पहनकर सूर्य देवता की पूजा करें। चाहें तो पास के मंदिर भी जा सकते हैं। इसके बाद ब्राह्मणों, गरीबों को दान करें। इस दिन दान में आटा, दाल, चावल, खिचड़ी और तिल के लड्डू विशेष रूप से लोगों को दिए जाते हैं। इसके बाद घर में प्रसाद ग्रहण करने से पहले आग में थोड़ी सा गुड़ और तिल डालें और अग्नि देवता को प्रणाम करें।
 

Leave a Reply